gallery/121 copy

इतिहास

 

          वैदिक मंत्र जिनकी दिनचर्या में है, जो सामाजिक चेतना एवं संस्कार का केन्द्र है ऐसे सरस्वती शिशु मन्दिर/उ.मा. विद्यालय, विन्ध्यनगर एन.टी.पी.सी. विन्ध्यनगर परियोजना की आवासीय कॉलोनी एन.एच.-1 में सन् 1988 से संचालित हो रहा है।
यह विद्यालय विद्याभारती महाकोशल प्रान्त के अन्तर्गत सरस्वती शिक्षा परिषद जबलपुर, म.प्र. द्वारा संचालित है।


          विद्यालय में भैया/बहन संस्कृत, संगीत, योग और वैदिक गणित के साथ कम्प्यूटर भी सीखते हैं। आधुनिक सुविधा सम्पन्न इस विद्यालय में कक्षा अरुण (एल. के.जी.) से कक्षा द्वादश (विज्ञान एवं वाणिज्य) तक अध्यापन कार्य होता है।


          मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिला में स्थित विन्ध्याचल विद्युत परियोजना उत्तरप्रदेश के सोनभद्र जिला को स्पर्श करता है। नौ गांवों के विरथापन एवं पुनर्वास से नवजीवन विहार एवं विन्ध्यनगर बसा है। एन.टी.पी.सी. परिसर में अंग्रेजी माध्यम के विद्यालय थे पर एन.टी.पी.सी. के कुछ कर्मचारियों ने हिन्दी माध्यम के विद्यालय की आवश्यकता अनुभव की। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तत्कालीन तहसील कार्यवाह स्व. नीलम कुमार जैन ने स्थानीय आवश्यकता को अनुभव किया। श्री लालमणि सिंह (अधिवक्ता, सीधी) एवं राजेन्द्र प्रसाद त्रिपाठी मान्यवर जिला कार्यवाह सीधी ने विन्ध्यनगर प्रवास के दौरान एन.टी.पी.सी. प्रबन्धन से भेंट की। कई बार विभिन्न स्तरों पर एन.टी.पी.सी. से वैठकें हुयी जिसके परिणाम स्वरुप 09 जुलाई 1988 को विन्ध्यनगर में सरस्वती शिशु मन्दिर खोलने की लिखित अनुमति मिली। उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश के शैक्षिक सचिवों में सहयोग किया। श्री चन्द्रविजय सिंह चंदेल प्रथम प्रधानाचार्य, श्री वंशमणि पाण्डेय, श्री शिव बहादुर उपाध्याय, श्री हनुमान प्रसाद द्विवेदी एवं श्री क्षमानन्द द्विवेदी ने प्रथम आचार्य के रुप में अपनी अमूल्य सेवाएं प्रदान की। प्रथम व्यवस्थापक स्व. नीलम जैन नियुक्त हुये। 24 जुलाई 1988 को महाप्रबन्धक श्री जी. वेंकटरमन ने इस विद्यालय का उद्घाटन किया। भारतीय संस्कार युक्त कक्षा सातवीं तक का यह विद्यालय विन्ध्यनगर में शीघ्र ही लोकप्रिय हो गया। बाद में यह विद्यालय कक्षा 12वीं तक संचालित होने सूची में आते रहते हैं जिससे विद्यालय अपनी लोकप्रियता बनाए रखी है। लगा । बोर्ड परीक्षाओं में कक्षा 10वीं एवं 12वीं में इस विद्यालय के छात्र मेधावी सूची में आते रहते हैं जिससे विद्यालय अपनी लोकप्रियता बनाए रखी है।